बलरामपुर में अफसरों पर बरसे सीएम बघेल ,समीक्षा बैठक में दो टूक आम जनता के बीच यह संदेश क्यों जाए कि जब मंत्री ,मुख्यमंत्री आएंगे तभी काम होगा,एक राशन कार्ड के लिए मुख्यमंत्री को निर्देश देना पड़े, इससे और शर्मनाक बात क्या होगी ,कलेक्टर पर भी हुए नाराज

बलरामपुर में अफसरों पर बरसे सीएम बघेल ,समीक्षा बैठक में दो टूक आम जनता के बीच यह संदेश क्यों जाए कि जब मंत्री ,मुख्यमंत्री आएंगे तभी काम होगा,एक राशन कार्ड के लिए मुख्यमंत्री को निर्देश देना पड़े, इससे और शर्मनाक बात क्या होगी ,कलेक्टर पर भी हुए नाराज

बलरामपुर । आम जनता के बीच यह संदेश क्यों जाना चाहिए जब मंत्री आए, मुख्यमंत्री आए तभी काम होगा । जनता के बीच में यह संदेश जाना चाहिए, जहां शिकायत मिली, जानकारी मिली, त्वरित कार्रवाई होनी चाहिए। चाहे बिजली का खंभा लगाना हो, किसान को कनेक्शन देना हो। एक राशन कार्ड के लिए मुख्यमंत्री को निर्देश करना पड़े, इससे और खराब बात क्या हो सकती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने यह कड़ी बात अधिकारियों की बैठक में कही।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार के प्रदेश के विधानसभाओं का दौरा शुरू किया है। पहले ही दिन नजर आई खामी पर मुख्यमंत्री आज अधिकारियों से खासे नाराज नजर आए। उन्होंने बैठक में अधिकारियों से कहा कि कल पीडीएस दुकान में वहां महिला नहीं थी, दूर खड़ी थी, उसने कहा मुझे राशन कार्ड नहीं मिला है। क्या इसके लिए केवल सीएमओ ही दोषी है। क्या उसके लिए कलेक्टर दोषी नहीं है। विभाग के अधिकारी जिम्मेदार नहीं हैं। क्यों ऐसा होना चाहिए। दो साल से राशन कार्ड नहीं मिला है। आप लोग क्या समीक्षा किए। मैं किसी की आलोचना नहीं कर रहा हूं, केवल जिम्मेदारी का भान करा रहा हूं। एक राशन कार्ड के लिए मुख्यमंत्री को निर्देश करना पड़े, इससे और खराब बात क्या हो सकती है। बता दें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ उनके मंत्रिमंडल के अन्य सहयोगी प्रदेश के दूरस्थ अंचल का दौरा कर शासकीय योजनाओं के क्रियान्वयन का जायजा ले रहे हैं। इस कड़ी में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज रामानुजगंज विधानसभा का दौरा करेंगे। मंत्री रविंद्र चौबे, टीएस सिंहदेव और कवासी लखमा भी दौरे पर रहेंगे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सुबह राजपुर में बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के अधिकारियों से जिले की विकास योजनाओं पर चर्चा की। राजधानी से पहुंचे वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में मुख्यमंत्री ने जिलेवासियों की सहूलियत के लिये संचालित विकास योजनाओं और कार्यक्रमो को सफलतापूर्वक पूरा करने के निर्देश दिए। इसके पहले उन्होंने अधिकारियों से परिचय लिया और खुशनुमा पारिवारिक माहौल में बात की। उन्होंने अधिकारियों की परेशानियों और काम में आ रही दिक्कतों के बारे में भी पूछा। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को शासन की तरफ से नियम अनुसार सभी संभव मदद का भी आश्वासन दिया।

छत्तीसगढ़