गुम हो गई थी ऋण पुस्तिका ,न्यायालय में द्वितीय प्रति के लिए दी थी अर्जी,खुद तहसीलदार लेकर पहुंची द्वितीय प्रति, आवेदिका हुई हैरान ,जताया आभार

गुम हो गई थी ऋण पुस्तिका ,न्यायालय में द्वितीय प्रति के लिए दी थी अर्जी,खुद तहसीलदार लेकर पहुंची द्वितीय प्रति, आवेदिका हुई हैरान ,जताया आभार

कोरबा। तहसीलदार पाली श्रीमती ममता रात्रे की पहल पर एक और जरूरतमंद परिवार लाभान्वित हुआ। पटवारी हल्का नम्बर 19 ,राजस्व निरीक्षक मंडल पाली के ग्राम सराईपाली निवासी आवेदिका रामकुमारी पिता फगुन सिंह,पुनिया बाई पति फगुन सिंह को भूमि स्वामी हक की पैतृक भूमि की ऋण पुस्तिका गुम हो जाने पर द्वितीय प्रति स्वयं तहसीलदार श्रीमती ममता रात्रे ने उनके घर जाकर प्रदान किया। जिससे वो अत्यंत हर्षित हुई।

गौरतलब है कि ऋण पुस्तिका गुम जाने की वजह से उक्त भूमि संबंधी संव्यवहार किए जाने में आवेदिकागण को असुविधा हो रही थी। खाद बीज लेने एवं फसल बेचने में परेशानी हो रही थी। यही नहीं उक्त भूमि पर किसी भी प्रकार का ऋण नहीं लिया गया था। सभी वित्तीय भारों से मुक्त भूमि था। लिहाजा न्यायालय में आवदिकागण द्वारा द्वितीय प्रति के लिए लगाए गए आवेदन को न्यायहित में स्वीकार कर लिया गया। कलेक्टर के निर्देशानुसार न्यायालय में आदेश उपरांत उसका परिपालन सुनिश्चित किया गया। तहसीलदार श्रीमती ममता रात्रे को समक्ष पाकर महिला अत्यंत प्रसन्न हुई। उन्होंने अन्य समस्याओं के संदर्भ में भी चर्चा किया।

कोरबा