पुलिस को चकमा देकर जब्त रेत ट्रेक्टर लेकर फरार चालक नायब तहसीलदार की सूझबूझ से चढ़ा पुलिस के हत्थे

पुलिस को चकमा देकर जब्त रेत ट्रेक्टर लेकर फरार चालक नायब तहसीलदार की सूझबूझ से चढ़ा पुलिस के हत्थे

कोरबा । रेत से भरे जप्त ट्रेक्टर को पुलिस को चकमा देकर फरार ट्रेक्टर चालक आखिरकार दीपका पुलिस के हत्थे चढ़ ही गया। नायब तहसीलदार की सूझबूझ से फरार होने से पहले आरोपी चालक की ली गई तस्वीर के सहारे पुलिस ने आरोपी चालक को ढूंढ निकाला।

अजग-गजब घटनाओं के मामले में कोरबा जिले का नाम शामिल हो रहा है। रेत चोरी के काम में कुख्यात लोग और उनकी गैंग लगी हुई है। दीपका क्षेत्र में जिला प्रशासन ने नायब तहसीलदार वीरेन्द्र श्रीवास्तव के नेतृत्व में रेत से भरा एक ट्रैक्टर 18 जून को पकड़ा था । कार्रवाई के दौरान चालक ने गाड़ी में खराबी आने की बात कही। जब पुलिस वाहन को जप्त करने मौके पर पहुंची तो वाहन वहां से नदारत था। दीपका पुलिस को लिखित रूप से इस बारे में अवगत कराया गया। जानकारी में बताया गया कि बांकीमोंगरा थाना के जवाली गांव के रहने वाले सतीश टंडन के नए सोनालिका ट्रैक्टर ट्राली से रेत की चोरी की जा रही थी। इसी गांव का रहने वाला सुनील पटेल ट्रैक्टर को चला रहा था। बीती रात 8.30 बजे के आसपास तहसीलदार व्ही के श्रीवास्तव और नायब तहसीलदार के द्वारा दीपका चौक पर जांच पड़ताल की जा रही थी। इस ट्रैक्टर को रोककर चालक से पूछताछ की गई। उसके द्वारा रेत परिवहन के बारे में अधिकृत कागजात पेश नहीं किये गए। जिस पर माना गया कि मामला रेत के अवैध खनन और परिवहन यानी कुल मिलाकर चोरी का है। चौराहे पर पूछताछ के बाद जब वाहन को पुलिस थाना ले जाने की बात कही गई तो चालक ने अपनी चाल चली और वाहन बिगड़ जाने की बात कहते हुए आगे जा पाने में असमर्थता जताई। तब अधिकारियों ने चालक को पुलिस थाना पहुंचाया। बताया गया कि कुछ देर बाद जब पुलिस कर्मी वाहन को जप्त करने के लिए घटना स्थल पहुंचे तो यह देखकर दंग रह गए कि वहां टैक्टर है ही नहीं। इस कारनामे ने अधिकारियों को परेशान किया। हालांकि इससे पहले वाहन की फोटो खींच ली गई थी। प्रशासन की ओर से पुलिस को लिखित रूप से जानकारी दी गई है, जिसमें बताया गया कि सोनालिका ट्रैक्टर से 3 घन मीटर रेत मिला है। वाहन को सुनील पटेल चला रहा था। नायब तहसीलदार श्री श्रीवास्तव द्वारा खींचे गए फ़ोटो के आधार पर पुलिस ने चालक को गिरफ्तार कर लिया ।

कोरबा