श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर का गूगल मैप पर दिखेगा लोकेशन,गूगल बिजनेस डायरेक्ट्री में भी दर्ज की जाएगी मेडिकल स्टोर की जानकारी

श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर का गूगल मैप पर दिखेगा लोकेशन,गूगल बिजनेस डायरेक्ट्री में भी दर्ज की जाएगी मेडिकल स्टोर की जानकारी

टोल-फ्री नम्बर 1100 पर मेडिकल स्टोर से संबंधित शिकायतों-सुझावों की रहेगी व्यवस्था

कोरबा । लोगों को सस्ती दरों पर दवाईयां उपलब्ध कराने के लिए श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर योजना शुरू की गई है। श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर तक लोगों की पहुंच आसान बनाने के लिए इन दुकानों की लोकेशन गूगल मैप पर स्टोर की जाएगी। गूगल मैप पर मेडिकल स्टोर का लोकेशन स्टोर हो जाने से इंटनरेट के माध्यम से मेडिकल स्टोर के पते की जानकारी लेकर नागरिकगण आसानी से मेडिकल स्टोर तक पहुंच पाएंगे। लोगों के सहुलियत के लिए गूगल बिजनेस डायरेक्ट्री में श्री धनवंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर की लोकेशन, खुलने व बंद होने का समय तथा एम.आर.पी. में छूट की जानकारी भी अपलोड की जाएगी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आम नागरिकों तक रियायती दरों पर दवाईयों की पहुंच सुनिश्चित करने के लिए तथा श्री धनवंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर के सुचारू संचालन के लिए उपरोक्त निर्देश दिए हैं। इन मेडिकल स्टोर्स में बिल नहीं मिलने, दवा उपलब्ध नहीं होने, सही समय पर स्टोर नहीं खुलने एवं बंद रहने जैसी शिकायतों के निदान के लिए टोल-फ्री नम्बर 1100 पर शिकायत दर्ज कराने की भी व्यवस्था रहेगी। टोल-फ्री नंबर पर दर्ज की जाने वाली शिकायतों का निराकरण समय-सीमा में की जाएगी।श्री धनवंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर योजना के अंतर्गत कोरबा जिले के नगरीय क्षेत्रो में कुल छह मेडिकल स्टोर संचालित की जा रही है। इन मेडिकल स्टोर के खुल जाने से जिले के लोगों को जेनेरिक दवाईयां एमआरपी रेट से 55 प्रतिशत डिस्काउंट रेट पर उपलब्ध हो रही है। इन मेडिकल स्टोर्स में 251 प्रकार की जेनेरिक दवाईयां तथा 27 सर्जिकल उत्पाद उपलब्ध रहेंगे। इसके अलावा वन विभाग के संजीवनी के उत्पाद, सौंदर्य प्रसाधन उत्पाद और शिशु आहार आदि का भी विक्रय धनवंतरी मेडिकल स्टोर्स में किया जाएगा। इन मेडिकल स्टोरों से मिलने वाली जेनेरिक दवाइयां 20 ब्रांडेड कंपनी की होंगी, जो सस्ती होने के साथ-साथ गुणवत्तापूर्ण भी होंगीं। श्री धनवंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर योजना से आम नागरिकों को विशेषकर गरीब एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों पर दवाईयों में होने वाले खर्च का बोझ कम होगा तथा उन्हें आधे से कम कीमत पर उच्च क्वालिटी की दवाईयां प्राप्त हो सकेंगी।

कोरबा