कवर्धा घटना से पूरे प्रदेश के हिंदुओं में आक्रोश ,विहिप के नेतृत्व में किया प्रदर्शन ,निकाली हुंकार रैली ,सौंपा ज्ञापन

कवर्धा घटना से पूरे प्रदेश के हिंदुओं में आक्रोश ,विहिप के नेतृत्व में किया प्रदर्शन ,निकाली हुंकार रैली ,सौंपा ज्ञापन

कोरबा। प्रदेश के कवर्धा जिले में पिछले दिनों ध्वज उतारकर अपमानित किए जाने के मुद्दे को लेकर नाराजगी कायम है। विश्व हिंदू परिषद ने प्रदेश में एक ही दिन इस मामले को लेकर सभी जिलों में प्रदेशव्यापी प्रदर्शन किया और अपनी ताकत दिखाई। कोरबा में नेताजी सुभाष चौक के पास हजारों की संख्या में लोगों को वक्ताओं ने संबोधित किया। काफी देर तक मशक्कत के बाद प्रदर्शनकर्ता कोसाबाड़ी चौक पहुंचे। यहां पर राष्ट्रपति और राज्यपाल के नाम का ज्ञापन संयुक्त क्लेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया । पुलिस प्रशासन की चुस्त व्यवस्था से किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ है।

विश्व हिंदू परिषद की कोरबा जिला इकाई ने कवर्धा घटनाक्रम को लेकर पूरे राज्य में प्रदर्शन की घोषणा की थी। परिषद के आह्वाहन पर शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों से बड़ी संख्या में कार्यकर्ता कोरबा पहुंचे थे। प्रदर्शनकर्ताओं को कलेक्ट्रेट पहुंचने से रोकने के लिए पहले ही नेताजी सुभाष चंद्र बोस चौराहे पर प्रशासन के द्वाराबेरिकेटिंग कर दी गई थी। इसके चलते इस रास्ते से आवाजाही करने वाले लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा, हर तरह की बाधाओं के बीच विश्व हिंदू परिषद ने मौके पर तैयारी की और अपने तेवर दिखाए ।अनेक पदाधिकारियों ने यहां पर कवर्धा घटनाक्रम को लेकर बात रखी।मौके पर विभिन्न संगठनों के नेताओं सहित आम लोगों की उपस्थिति के बीच यहां से कलेक्ट्रेट कूच करने की घोषणा के मध्य नजर बेरिकेडिंग खुलवाई गई। प्रदर्शन कर रहे लोग यात्रा करते हुए कोसाबाड़ी चौक पहुंचे, जहां पर पुलिस ने उन्हें रोक लिया। यहां पर प्रशासन की ओर से संयुक्त क्लेक्टर को विश्व हिंदू परिषद ने अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन सौंपा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला संघचालक किशोर बुटोलिया ने बताया कि प्रदर्शन कर रहे लोगों को रोकने के लिए कई तरह से कोशिश की गई। आज यहां पर हिंदू समाज की जीत हुई है।कोरबा में प्रदर्शन के अंतर्गत संयुक्त क्लेक्टर सुनील नायक के माध्यम से जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा गया ।विहिप के नेतृत्व में किए गए इस प्रदर्शन में बड़ी संख्या में युवाओं सहित महिलाओं ने अपनी भूमिका निभाई।

कोरबा