बहुचर्चित काजल मसंद हत्याकांड के हत्यारे बेनकाब ,दुष्कर्म में असफल होने पर कर दी थी हत्या ,तीनों आरोपी गिरफ्तार

बहुचर्चित काजल मसंद हत्याकांड के हत्यारे बेनकाब ,दुष्कर्म में असफल होने पर कर दी थी हत्या ,तीनों आरोपी गिरफ्तार

रायगढ़। बहुचर्चित काजल मसंद हत्याकांड का रायगढ़ पुलिस ने रविवार को खुलासा किया। घटना को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। तीनों ने गलत इरादे से काजल को अकेली देख घर में घुसे थे, लेकिन दुष्कर्म के प्रयास में काजल के जोरदार प्रतिरोध से डरकर सिर पर पत्थर मारकर उसकी हत्या कर दी थी।

बता दे कि 14 जून 2022 को स्वास्तिक विहार कालोनी निवासी काजल मसंद की हत्या हो गई थी। एसपी अभिषेक मीना ने एडिशनल एसपी को अपने सुपरविजन पर सीएसपी दीपक मिश्रा के नेतृत्व में टीम बनाकर आरोपियों की पतासाजी का निर्देश दिए थे । जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि मृतिका की तीनों सगी बहनें शादी पश्चात दिगर राज्यों में अपने ससुराल में रह रही हैं। मृतिका अपनी मां को रोजाना उसके कार्यस्थल सुबह छोड़ने जाती है, और वापस घर में आकर अकेली रहती है। पुलिस की टीम ने मृतिका के आने के समय चेक कर सीसीटीवी के फुटेज खंगालने के साथ घर आसपास काम करने वाले लोगों, संपर्क में आए ऑटो चालक, आस-पड़ोस में काम कर रहे मजदूरों व चौकीदार से पूछताछ की।
सीसीटीवी फुटेज चेक करने के दौरान क्षेत्र का कुख्यात बदमाश, आदतन आरोपी राम भरोस नजर आया। जिसकी ओर पुलिस डॉग रूबी भी संकेत किया था। इस पर आरोपी राम भरोस को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया।।पहले तो वह पुलिस को गुमराह करता रहा, लेकिन सबूत दिखाए जाने के बाद उसने अपने मोहल्ले के दो साथी गोपाल उर्फ नानू साहू और मित्रभानु उर्फ मोनू सोनवानी के साथ हत्या करना स्वीकार किया। आरोपी रामभरोस चौहान ने बताया कि उसका जिस लड़की से प्रेम संबंध था, वह जिस रास्ते से लोगों के घरों में मजदूरी करने के लिए जाती थी वह काजल मसंद के घर के बगल के होकर जाता है। वहीं पास में रामभरोस अपने साथी मित्रभानु सोनवानी और गोपाल साहू के साथ अक्सर बैठा करता था। तीनों ही काजल मसंद को गंदी निगाह से देखते थे। उनको जानकारी थी कि काजल मसंद के घर कोई पुरुष नहीं है, मां -बेटी अकेले रहते हैं।14 जून को के सुबह से तीनों शराब पिए थे। सुबह इन्होंने काजल को उसकी मां को स्कूटी पर छोड़ कर घर आते देखा था। मौके देख तीनों दरवाजे का कुंडी लगा ना होने के कारण अंदर घर के अंदर चले गए। तीनों ने बिस्तर पर काजल का मुंह, गर्दन दबा दिए थे, लेकिन वह छुड़ाने की कोशिश में शोर कर प्रतिरोध कर रही थी, जिससे तीनों डर गए। इसी बीच रामभरोस कमरे से बाहर निकला और बाहर पड़े चिप पत्थर से काजल मसंद के सिर पर कई बार प्रहार किया जिससे सिर फटने से काजल की मृत्यु हो गई। तीनों आरोपियों ने साक्ष्य छुपाने के नियत से अलमारी में रखे एक टावेल से पत्थर को लपेट दिया और काजल के कपड़े उतारकर उसके मोबाइल से फोटो लिए और जाते-जाते कमरे में रखे थैले में मिले 1540 रुपए को आपस में बांट लिए। घटना कारित करने के बाद तीनों अटल आवास पहुंचे, जहां काजल मसंद के घर से मिले एटीएम कार्ड को छोड़कर अपने-अपने घर चले गए। काजल के मोबाइल मित्रभानु रखा हुआ था, जिसे उसने पकड़े जाने के डर से उसे पंचधारी डैम में फेंक दिया। पुलिस ने आरोपियों से साक्ष्य छुपाने में प्रयुक्त टावेल व घटना में प्रयुक्त चिप पत्थर, मोटरसाइकिल व कुछ नगद रुपए बरामद किया है।

रायगढ़