छत्तीसगढ़- CM बघेल का अनोखा अंदाज; पैतृक गांव में बचपन के दोस्त को हेलिकॉप्टर में घुमाया, पिछले साल मिलकर जताई थी इच्छा

छत्तीसगढ़- CM बघेल का अनोखा अंदाज; पैतृक गांव में बचपन के दोस्त को हेलिकॉप्टर में घुमाया, पिछले साल मिलकर जताई थी इच्छा

रायपुर: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपनी सादगी भरे रवैये की वजह से चर्चा में रहते हैं। बघेल शुक्रवार को दुर्ग जिले के अपने पैतृक गांव कुरुदडीह पहुंचे। मुख्यमंत्री ने नया खाई (स्थानीय त्योहार) के मौके पर गांव वालों से मुलाकात की। वे हर साल दशहरे पर पूजा के लिए यहां आते हैं। इस दौरान बघेल ने अपने बचपन के दोस्तों से भी मुलाकात की। वहीं, एक दोस्त को हेलिकॉप्टर की यात्रा भी कराई।

दोस्तों के साथ मुख्यमंत्री।

दोस्तों के साथ मुख्यमंत्री।

गांव में दिलचस्प वाकया
पिछले साल मुख्यमंत्री गांव आए थे, तब उनके बचपन के दोस्त नारायण निषाद ने कहा था कि अब तो तुम हेलिकॉप्टर में घूमते हो… कभी हेलिकॉप्टर से यहां आओ तो मुझे अपना हेलिकॉप्टर दिखा देना। मुख्यमंत्री को नारायण निषाद की बात याद थी। इस बार वे हेलिकॉप्टर से ही दुर्ग गए। उन्होंने नारायण से छत्तीसगढ़ी में कहा- चल तोला आज हेलिकॉप्टर में घुमाहूं (चलो आज तुम्हे हेलिकॉप्टर में घुमाता हूं)। कुछ देर ग्रामीणों से बातचीत के बाद बघेल अपने दोस्त को साथ लेकर दुर्ग के हेलीपैड पहुंचे। फिर दोनों रायपुर आ गए।

CM ने नारायण से पूछा कि तुम्हें नजर का चश्मा कब से लग गया। गांव की तस्वीरों को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए मुख्यमंत्री ने लिखा कि पुराने दोस्तों से बातचीत करने का अवसर मिला। बचपन की यादें ताजा हो गईं। बचपन के दिनों में मैं अपने इन्हीं साथियों के साथ गलियों में घूमा करता था।

महिलाओं ने कहा हमारा दुख तुम ही हरोगे।

महिलाओं ने कहा हमारा दुख तुम ही हरोगे।

‘ते ह हमर दुख ल नई हरबे, त कौन हरही’
कुरुदडीह की महिलाओं ने छत्तीसगढ़ी में मुख्यमंत्री को कहा- तय नहीं हरबे हमर दुख ला तो कौन हरहि, आपसे ही उम्मीद है अच्छा करत हव, अच्छा होही। चर्चा के दौरान यह पता चला कि गांव के कुछ लोगों का नाम मुख्यमंत्री ने ही रखा है। ग्रामीणों से हुई चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री ने बताया कि जिन ग्रामीणों से बातचीत हो रही है, उनमें से कुछ का नाम तो उन्होंने ही रखा है। मुख्यमंत्री ने मौके पर बच्चों और बुजुर्गों से भी बातचीत की। पिछली बार जब मुख्यमंत्री आए थे, तब एक बुजुर्ग ने कहा था कि उन्होंने हेलिकॉप्टर नहीं देखा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दफा वह हेलिकॉप्टर में आए हैं। बच्चों और बुजुर्गों में हेलिकॉप्टर का विशेष कौतूहल होता है। आज आप नया खाई मनाइए और हेलिकॉप्टर भी देख लीजिए।

ग्रामीणों के बीच भूपेश बघेल।

ग्रामीणों के बीच भूपेश बघेल।

CM को एक बुजुर्ग ने बताया कि वह हर दिन 80 रुपए का गोबर बेच लेते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह से गोबर के माध्यम से भी अतिरिक्त आय आप लोग हासिल कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने भूमिहीन किसानों को भी राहत देने के लिए योजना बनाई है। आप सभी उसका आवेदन जरूर करें। आप सभी अपने घर के पीछे केला, आम और नींबू के पेड़ लगाएं। आंगन में फलदार पेड़ होते हैं तो घर की सुंदरता भी बढ़ती है और बच्चों के पोषण के लिए फल भी मिलते हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि हम सब लोग खेती करते हैं। हमारी उपज के अच्छे दाम मिलें, इस पर हमने कार्य किया है। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांगें भी सुनीं तथा इनसे संबंधित निर्माण कार्य आरंभ कराने के निर्देश कलेक्टर को दिए।

रायपुर